विचार

पेट को भगवान मत बनाइए

अपने बाल्यकाल में मुझे रामकृष्ण मिशन से जो लाभ मिला है, उसे मैं आजीवन भूल नहीं सकूंगा। मुझे वहां जो प्रेरणा प्राप्त हुई है, उसका थोड़ा अंश भी यदि मैं इस सम्मलेन में आए नवयुवकों में संचरित कर सकूं तो मेरा यहां आना सार्थक होगा। ऐसा हमें प्रायः ही सुनने को मिलता है कि ‘वैज्ञानिक […]

भारतीय भाषाओं को प्रतिष्ठित करना होगा

आज देश में भाषा व्यापक चर्चा का विषय है। एक तरफ देश में मातृभाषा का महत्व कम होता दिखाई दे रहा है, दूसरी तरफ आज दुनिया के लगभग 170 देशों में किसी न किसी रूप में हिन्दी पढ़ाई जाती है। विश्व के 32 देशों के विश्वविद्यालयों में संस्कृत पढ़ाई जा रही है। इंग्लैंड के सेंट […]